-->
लखनऊ : ऐसे सामने आया मामला, नर्स ने हाथ से...

लखनऊ : ऐसे सामने आया मामला, नर्स ने हाथ से...


 लखनऊ के चिनहट के मल्हौर इलाके के एक निजी अस्पताल में एक स्टाफ नर्स के हाथ से फिसलकर फर्श पर गिरने से एक नवजात शिशु की मौत हो गई. पोस्टमार्टम रिपोर्ट में मौत का कारण सिर में चोट बताया गया है. पुलिस ने नर्स और अस्पताल स्टाफ के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है. घटना 19 अप्रैल की है, लेकिन इसका खुलासा मंगलवार की देर रात तब हुआ, जब कुछ मीडियाकर्मियों को इसकी जानकारी मिली.


क्या बोले अधिकारी?

जांच अधिकारी अभिषेक पांडे ने बुधवार को बताया कि अस्पताल की सिफारिश पर घटना वाले दिन बच्चे का पोस्टमार्टम कराया गया. उन्होंने कहा, "20 अप्रैल को आई पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट से पता चला है कि मौत सिर में चोट लगने के कारण हुई है." एडीसीपी (पूर्वी क्षेत्र), कासिम आबिदी ने कहा कि लापरवाही से मौत हुई है. आपराधिक धमकी और स्वेच्छा से चोट पहुंचाने का मामला 24 अप्रैल को आया. जिसमें एक नर्स और अस्पताल के अन्य स्टाफ सदस्यों के खिलाफ दर्ज किया गया था. हालांकि अभी तक अस्पताल या उसके स्टाफ के खिलाफ कोई कार्रवाई नहीं की गई है.

क्या बोले पिता?

मृतक बच्चे के पिता जीवन राजपूत द्वारा चिनहट पुलिस स्टेशन में औपचारिक शिकायत दर्ज कराने के बाद मामला दर्ज किया गया है. राजपूत ने बताया कि घटना के बाद से उनकी पत्नी पूनम सदमे में हैं और उनका इलाज चल रहा है. राजपूत ने कहा कि वह 19 अप्रैल को अपनी पत्नी को अस्पताल ले गए थे, क्योंकि उसे प्रसव पीड़ा होने लगी थी. रात में उसकी डिलीवरी हो गई. उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि मुझे बताया गया कि बच्चा मृत पैदा हुआ है.

नर्स की लापरवाही

मृतक बच्चे के पिता जीवन राजपूत ने कहा कि जब मैंने अपनी पत्नी से बात की, तो उसने कहा कि प्रसव सामान्य था और उसने बच्चे को जीवित देखा था. मेरी पत्नी ने मुझे बताया कि उसने एक नर्स को बिना किसी तौलिया के बच्चे को अपने हाथों में लेते हुए देखा था और बच्चा उसके हाथ से फिसल गया. मेरी पत्नी घबरा गई और चिल्लाने लगी. नर्स और अन्य स्टाफ सदस्यों ने उसका मुंह दबा दिया. उसे अपना मुंह बंद रखने की धमकी दी. हालांकि अस्पताल ने आरोपों को खारिज करते हुए कहा कि ऐसी कोई घटना नहीं हुई है.

3 Responses to "लखनऊ : ऐसे सामने आया मामला, नर्स ने हाथ से..."

  1. Aise laparwah hospital ko band kar dena chahiye aur staff ke khilaf sakht karwai honi chahiye

    ReplyDelete
  2. Strictest action should be taken against such hospital and action should be taken against the staff.

    ReplyDelete
  3. hospital ka rasookh dekhiye ki itna sabkuch hone ke baad bhi unka naam khabarnavees chaapne se bach rahe hain. waah re khabarnavees.

    ReplyDelete

Between the Articles

advertising articles 2